Monday, December 23, 2019

Na Duniya Mangi Hai song Lyrics | Sab Kushal Mangal | Priyaank S & Riva K | Harshit Saxena & Bhoomi Trivedi (हिंदी)

Na Duniya Mangi Hai Lyrics from Sab Kushal Mangal and by Harshit Saxena and Bhoomi Trivedi .  Produced by Harshit Saxena and the music  written by Sameer Anjaan .



Singer - Harshit Saxena, Bhoomi Trivedi

Lyricist - Sameer Anjaan


Music - Harshit Saxena

                                                

Na duniya mangi hai
Na jannat mangi hai
Na duniya mangi hai
Na jannat mangi hai



Dil ne tujhe paane ki
Bas mannat mangi hai



Na duniya mangi hai
Na jannat mangi hai
Na duniya mangi hai
Na jannat mangi hai



O o o..
Barson se jise maine
Palkon mein basaya tha
Chup chaap jisse maine
Dhadkan mein chupaya tha



Barson se jise maine
Palkon mein basaya tha
Chup chaap jisse maine
Dhadkan mein chupaya tha



Jo khwab sunehra tha
Woh tera chehra tha
Jo khwab sunehra tha
Woh tera chehra tha



Jud jaaye jo tujhse
Woh kismat mangi hai



Na duniya mangi hai
Na jannat mangi hai
Na duniya mangi hai
Na jannat mangi hai


Soonepan mein aksar
Teri aahat sunta hoon
Gumsum tanhaai mein
Tere khwab mein bunta hoon



Soonepan mein aksar
Teri aahat sunta hoon
Gumsum tanhaai mein
Tere khwab mein bunta hoon



Ab tujhko paana hai
Kahin door na jaana hai
Ab tujhko paana hai
Kahin door na jaana hai



Jo sang tere guzre
Woh fursat mangi hai



Na duniya mangi hai
Na jannat mangi hai
Na duniya mangi hai
Na jannat mangi hai

ना दुनिया मांगी है सब कुशल मंगल से और हर्षित सक्सेना और भूमि त्रिवेदी द्वारा गीत। हर्षित सक्सेना द्वारा निर्मित और समीर अंजान द्वारा लिखित संगीत है।



ना दुनीया मनई है
ना जन्नत मंगी है
ना दुनीया मनई है
ना जन्नत मंगी है

दिल ने तुझ पान की
बास मन्नत मंगी है

ना दुनीया मनई है
ना जन्नत मंगी है
ना दुनीया मनई है
ना जन्नत मंगी है

ओ ओ ओ ..
बरसन से जइसे मइँ
पलकोन में बसै थाय
चुप चाप जीससे मैना
धड़कन में चुपाया था

बरसन से जइसे मइँ
पलकोन में बसै थाय
चुप चाप जीससे मैना
धड़कन में चुपाया था

जो ख्वाब सुनहरा था
वो तेरा चेहरा था
जो ख्वाब सुनहरा था
वो तेरा चेहरा था

जज जये जो तुझसे
वो किसमट मंगी है

ना दुनीया मनई है
ना जन्नत मंगी है
ना दुनीया मनई है
ना जन्नत मंगी है

सोनपन्न मे अकसर
तेरी आहात सुनता हूं
गुमसुम तन्हाई में
तेरे ख्वाब में बंटा हूं

सोनपन्न मे अकसर
तेरी आहात सुनता हूं
गुमसुम तन्हाई में
तेरे ख्वाब में बंटा हूं

अब तुझको पाना है
कहि द्वार न जानै है
अब तुझको पाना है
कहि द्वार न जानै है

जो गाया तेरे गुर्ज
वोह फुर्सत मंगी है

ना दुनीया मनई है
ना जन्नत मंगी है
ना दुनीया मनई है

ना जन्नत मंगी है

No comments:

Post a Comment

Please don't post spam message.